बहुआयामी सहायता योजना संभल(नया सवेरा) का नहीं हो रहा क्रियान्वयन =रंजीत सिह

बहुआयामी सहायता योजना संभल(नया सवेरा) का नहीं हो रहा क्रियान्वयन =रंजीत सिह

बहुआयामी सहायता योजना संभल(नया सवेरा) का नहीं हो रहा क्रियान्वयन =रंजीत सिह

मध्यप्रदेश मे 36 लाख व नपा सारनी  ने संबल योजना के हितग्राहियों की सूची से 14000 नाम काटे 

 सारनी। भाजपा के जिला मंत्री रंजीत सिंह ने आरोप लगाया कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के  अंत्योदय विचारधारा को सार्थक करने के लिए मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी चौहान ने संबल योजना लाई थी, जो चहुमुखी सहायता योजना थी जिसके माध्यम से समाज के अंतिम पंक्ति पर खड़े व्यक्ति को शासन की योजनाओं का लाभ मिल सके ,उसका समग्र और सार्थक विकास हो सके  इसलिए  संबल योजना  शिवराज जी ने लाई थी। किन्तू मध्य प्रदेश सरकार बहुआयामी सहायता योजना संभल का क्रियान्वयन नहीं हो रहा है। और लगातार पूरे मध्यप्रदेश में संबल योजना के हितग्राहियों की सूची से नाम काटे जा रहे हैं पूरे मध्यप्रदेश मे 36 लाख,सारनी नपा ने भी क्षेत्र के हितग्राहियों की सूची 14000 नाम काट दिए हैं।वार्ड़ पार्षदो को इसकी जानकारी भी नही है   साथ ही गरीबी रेखा की सूची से भी हितग्राहियो के नाम काटे जा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर संबल योजना के हितग्राहियों को भी योजना का लाभ नहीं मिल रहा है सरकार बनने के बाद से ही अंत्येष्टि सहायता राशि के पॉच हजार  कन्यादान योजना के 51000 रू भी हितग्राहियों को नही मिल रहे है।  इसके अतिरिक्त वद्धा पेंशन योजना, विकलांग पेंशन योजना का भी लाभ हितग्राहियो को  सरकार द्वारा नहीं दिया जा रहा है।सभी सहायता योजना को सरकार द्वारा बजट ना होने का बहाना देकर शिथिल कर दिया गया है, किंन्तु इसके विपरीत सरकार द्वारा लाखों करोड़ों रुपए खर्च कर मध्यप्रदेश में आईफा अवार्ड का आयोजन कर रही है, प्रदेश के किसानों को कर्ज माफी का धोखा दिया गया साथ ही भावंतर के हजारों करोड़ों रुपए मध्य प्रदेश के किसानों के सरकार पर बकाए है। और इधर सरकार आइफा अवॉर्ड में व्यस्त है साथ ही पुरे प्रदेश व सारनी नपा से हजारों संबल योजना के लाभार्थियों के नाम सूची से काट दिए गए  जो  दुर्भाग्यपूर्ण है। और इधर जनता का ध्यान बांटने के लिये देश के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू व पंडित दिनदयाल उपाध्याय जी की प्रतिमा लगाने को लेकर भ्रमित करने का प्रयास किया जा रहा है।भारतीय जनता पार्टी को देश के महापुरुषों के प्रतिमा लगाने मे कोई आपत्ति नही है पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु जी की प्रतिमा लगनी चाहिये भाजपा पार्षदों ने परिषद की बैठक मे दोनो महापुरुर्षो की प्रतिमा लगाने की बात कही थी और परिषद मे जिम्मेदार अघिकारी ने कहा था कि दोनो महापुरुषों की मुर्ति स्थापना को लेकर शासन से राय लेने के बाद महापुरुषो की प्रतिमा लगाई जायेगी।लेकिन काग्रेंसी मित्रो को इतनी जल्दबाजी क्यो है कही न कही अधिकारियो के मिलिभगत से यह प्रतिमा स्थापित की गयी जो शासन के गाइडलाइन का पालन नही किया गया है।प्रतिमा स्थापित करने के लिये जिला कलेक्टर से अनुमति व कास्य प्रतिमा स्थापित करनी चाहिये ।ऐसा लगता है शासकिय योजनाओ से हितग्राहियो के नाम जिस तेजी से कांटे जा रहे हें उससे ध्यान हटाने के लिये प्रतिमा स्थापित करने का मुददा उठाकर जनता को भ्रमित किया जा रहा है।