खाली कराई 58 एकड़ वन भूमि ,पुरखो की बता रहे जमीन

प्रशासन, पुलिस,वन की बड़ी कार्रवाई,ढाई सौ आदिवासियों को हटाया,फारेस्ट पर था कब्जा 600 से अधिक पुलिस वन विभाग वन रक्षा समिति के जवान पहुंचे मौके पर खाली कराई 58 एकड़ वन भूमि पुरखो की बता रहे जमीन 88 आदिवसियों के।खिलाफ कार्रवाई बैतूल के सारनी फारेस्ट रेंज में आज पुलिस,प्रशासन और वन विभाग ने बड़ी कार्रवाई की है। यहां रिजर्व फारेस्ट में बीते एक सप्ताह से कब्जा कर बैठे ढाई सौ आदिवासियों को खदेड़ दिया गया है। प्रशासन ने आदिवासियों की बनाई उन झोपड़ियों को भी तोड़ दिया है जिसे पुरखो की जमीन बताकर आदिवसियों ने बनाया है।।प्रशासन ने इसे बेजा कब्जा मानते हुए आदिवासियों को रिजर्व फारेस्ट से हटने की समझाइस दी थी।खुद कलेक्टर तेजस्वी एस नायक और डीएफओ पीयूष गोयल ने आदिवासियों को समझाइस देकर वन भूमि से हटने को कहा था।लेकिन आदिवासी इसे पुरखो की जमीन बताकर इलाके की 58 एकड़ जमीन छोड़ने को तैयार नही थे।जिसके बाद आज प्रशासन ने यहां 500 पुलिस ,वन और सुरक्षा समिति की जवानों को लेकर बेदखली की कार्रवाई की। हालांकि बल को देखते ही आदिवासी मौके से फरार हो गए।प्रशासन ने कब्जेधारियों की बनाई झोपड़ियां तोडकर सामान जप्त कर लिया है। खैरवानी पंचायत के अंतर्गत आने वाले 6 गांव के निवासियों के माध्यम से 20 सितंबर को वन विभाग की खसरा नंबर 44 भूमि पर 250 से अधिक आदिवासियों ने कब्जा कर रखा था. वन विभाग के माध्यम से 88 लोगों के खिलाफ वन अधिनियम की धारा के तहत कार्रवाई की गई है. जबकि सारणी पुलिस के माध्यम से 88 लोगों के खिलाफ 107/116 की कार्रवाई की गई है. हालांकि दोनों कार्रवाई में किसी भी ग्रामीण की गिरफ्तारी नहीं की गई है