जिले में 31 मई तक लागू रहेगा जनता कर्फ्यू जिला आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में दी गई सहमति

जिले में 31 मई तक लागू रहेगा जनता कर्फ्यू जिला आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में दी गई सहमति

जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति एवं इसे फैलने से रोकने के लिए चर्चा करने एवं महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए आज 16 मई को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिला आपदा प्रबंधन समूह की बैठक का आयोजन किया गया था। इस बैठक में सभी सदस्यों की सहमति ने निर्णय लिया गया कि बालाघाट जिले में जनता कर्फ्यू आगामी 31 मई तक प्रभावी रहेगा। बैठक में मध्य प्रदेश शासन के राज्यमंत्री आयुष (स्वतंत्र प्रभार) एवं जल संसाधन विभाग श्री रामकिशोर “नानो” कावरे, पूर्व कृषि मंत्री एवं वर्तमान विधायक श्री गौरीशंकर बिसेन, सांसद डॉ ढालसिंह बिसेन, विधायक श्री सुश्री हिना कावरे, विधायक श्री संजय उईके, कलेक्टर श्री दीपक आर्य, पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक तिवारी, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती आर उमा माहेश्वरी, अपर कलेक्टर श्री शिवगोविंद मरकाम, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडेय, सिविल सर्जन डॉ अजय जैन, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष श्री रमेश रंगलानी, डॉ बीएम शरणागत, श्रीमती लता एलकर, बालाघाट चेंबर आफ कामर्स के अध्यक्ष श्री अभय सेठिया, श्री सुरजीत सिंह ठाकुर, जिला आपदा प्रबंधन समूह के अन्य सदस्य अधिकारी एवं सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे। बैठक के प्रारंभ में बताया गया कि बालाघाट जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या प्रतिदिन लगभग 100 के करीब आ रही है और अब अधिक संख्या में ठीक भी हो रहे है। जिले में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए व्यापक इंतजाम किये गये है। आक्सीजन सिलेंडर एवं आक्सीजन कंसंट्रेटर मशीनों का पर्याप्त संख्या में इंतजाम किया गया है। अब जिले में कहीं पर भी कोरोना मरीजों के लिए बेड की कमी नहीं है। कोरोना मरीजों की कम संख्या के कारण आईटीआई के पीछे बुढ़ी में बनाये गये कोविड अस्पताल एवं मुलना स्टेडियम के कराते केन्द्र में बनाये गये कोविड सेंटर के मरीजों को गोंगलई में कोविड अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया है। बुढ़ी एवं मुलना स्टेडियम के कोविड सेंटर की सुविधाओं को जैसे का वैसा ही रखा गया है। कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने पर इन सेंटर का पुन: उपयोग प्रारंभ कर दिया जायेगा। बैठक में डॉ बी एम शरणागत ने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर पहले की तुलना में अधिक खतरनाक रही है। कोरोना वायरस हर बार अपना स्वरूप बदल रहा है और अब इसका न्या म्यूटेंट आ गया है, जिसे तिसरी लहर कहा जा रहा है। जैसे दूसरी लहर का आना तय था वैसे ही तिसरी लहर का आना भी तय है। कोरोना संक्रमण की यह तिसरी लहर बहुत अधिक घातक हो सकती है, क्योंकि यह बच्चों को प्रभावित कर रही है। कोरोना को रोकने के लिए अब तक जो भी टीके बने हैं वह व्यस्कों के लिए बनाये गये है। बच्चों के लिए इसका टीका उपलब्ध नहीं है। दूसरी लहर को आने देने में जो गलतियां हो गई वह अब आगे नहीं होना चाहिए। सुरक्षा, सतर्कता और सावधानी ही बचाव है, के सिद्धांत पर चलकर कोरोना की तिसरी लहर को रोका जा सकता है। अब हमें घर पर भी थ्री लेयर मास्क लगाकर रहना चाहिए। ताकि हम बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचा सकें। हमें समय रहते कोरोना की तिसरी लहर से बचने के लिए अस्पतालों में व्यापक स्तर पर इंतजाम करना होगा। आयुष मंत्री श्री कावरे ने बैठक में कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जिले में लागू कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन करने में प्रशासन को समाज के सभी वर्गों का सहयोग मिला है। अब हमें कोरोना की तिसरी लहर को रोकने के लिए तैयारी करने की जरूरत है। बच्चों के संक्रमित होने पर उनके उपचार के लिए क्या सुविधायें होना चाहिए इस पर विशेषज्ञों से चर्चा कर शीघ्र निर्णय करना होगा। इसके लिए बुढ़ी में बनाये गये कोविड सेंटर को और व्यवस्थित करना होगा। मंत्री श्री कावरे ने कहा कि हमारे पास ग्राम स्तर पर स्वास्थ्य विभाग के उप स्वास्थ्य केन्द्र उपलब्ध है। हमें इन पर अधिक ध्यान देकर उनकी सेवाओं को और सुदृढ़ व बेहतर बनाने के लिए काम करने की जरूरत है। स्वास्थ्य केन्द्रों की रोगी कल्याण समितियों की बैठक लेकर उन्हें सक्रिय करने की जरूरत है। सांसद डॉ बिसेन ने बैठक में कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के उप स्वास्थ्य केन्द्रों के स्टाफ को शहरों के अस्पतालों में संलग्न न किया जाये, बल्कि उन्हें गांव में ही काम करने दिया जाये। विधायक श्री गौरीशंकर बिसेन ने बैठक में कोविड वेक्सीन टीकाकरण एवं ग्रामीण क्षेत्रों में नि:शुल्क राशन वितरण पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता बतायी। उन्होंने जिला चिकित्सालय में प्लाज्मा संकलन की सुविधा शीघ्र प्रारंभ करने के लिए सभी आवश्यक तैयारी करने कहा। विधायक सुश्री हिना कावरे ने भी कोविड वैक्सीन टीकाकरण को प्रभावी बनाने एवं आम जन में फैले भ्रम को दूर करने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि विकासखंड स्तर पर कोरोना मरीजों के लिए अच्छी व्यवस्थायें की जाये, जिससे जिला चिकित्सालय पर अनावश्यक दबाव न पड़े। बैठक में सभी सदस्यों के सुझावों पर चर्चा के उपरांत तय किया गया कि बालाघाट जिले में जनता कर्फ्यू को आगामी 31 मई 2021 तक लागू रखा जायेगा। सभी सदस्यों ने बालाघाट जिले की जनता की सुरक्षा के लिए 31 मई 2021 तक जनता कर्फ्यू लागू रखने पर अपनी सहमति प्रदान की। बैठक में यह भी तय किया गया कि जिला प्रशासन जिले के सभी शासकीय व प्रायवेट चिकित्सकों से चर्चा कर कोरोना की तिसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए किये जाने वाले उपायों पर शीघ्र निर्णय लेगा।