सिरडी निवासी आनंदराव देशमुख के अंधेकत्ल का एसडीओपी मुलताई ने किया खुलासा ।

बैतूल : मुलताई 29.10.2020 को रात्री 03.00 बजे फरियादी निकलेश पिता आनंदराव देशमुख जाति कुनबी उम्र 30 साल निवासी सिरडी ने रिपोर्ट किया कि मै खेती किसानी का काम करता हूँ कल दिनांक 28.10.2020 को सुबह 08.30 बजे करीबन मेरे पिता आनंदराव बैलगाड़ी जोतकर खेत गए थे । खेत मे तुलसीराम के ट्रैक्टर से एक घंटा खेत की जुताई कराये और उसी के ट्रैक्टर मे बैठकर आए और बस स्टैंड सिरडी पर सुबह 11.30 बजे उतर गए । और तुलसीराम उसका ट्रैक्टर लेकर घर चले गया । मेरे पिता बस स्टैंड से घर के लिए निकले थे जो घुर नहीं आए जिनकी तलाश आस पास गाँव मे या रिश्तेदारों मे किए कोई पता नहीं चला है । मेरे पिता जी का हुलिया उम्र 60 साल रंग सावला सफ़ेद कद पाँच फिट सफ़ेद की शर्ट व सफ़ेद रंग का नामा पहने बदन इकहरा है पैरो में काले रंग के प्लास्टिक के जूते पहने है रिपोर्ट पर गुम इंसान क्र 105/2020 पंजीबद्ध कर जांच मे लिया गया था जांच दौरान श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय सुश्री सिमाला प्रसाद , श्रीमान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय श्रीमति श्रध्दा जोशी एवं एसडीओपी महोदय मुलताई सुश्री नम्रता सोधिया जी के मार्ग दर्शन में थाना प्रभारी मुलताई श्री सुरेश सोलंकी के निर्देशन में दिनांक 29.10.2020 को गुमशुदा के पुत्र अकलेश देशमुख निकलेश देशमुख एवं उम्रकान्त देशमुख एवं अन्य परिजनो से पूछताछ कर कथन लेखबद्ध किए गए जिन्होने बताया कि उनके परिवार व रिश्ते के भाई कृष्णराव का भांजा प्रमोद मगरदे एवं उसके परिवार का गाँव स्थित जमीन व कुआ का विवाद करीबन 2-3 साल से चल रहा है । करीबन एक साल पहले मक्के की दावन की बात को लेकर दोनों परिवारों के बीच मारपीट हुई थी जिसमे काउंटर मामला क्र 1030/19 , 1031/19 पंजीबद्ध हुआ था जो नयायालय विचाराधीन है एवं जमीन का मामला राजस्व न्यायालय में विचाराधीन है । इसी बात को लेकर आरोपी प्रमोद मगरदे ने दिनांक 28.10.2020 को दोपहर करीबन 11.00 बजे जब आनंदराव खेत से घर आते समय रास्ते मे प्रमोद के घर के सामने से जा रहा था तभी आरोपी प्रमोद ने उसके घर के सामने आनंदराव को पीछे से मूह दबाकर खीच कर घर के अंदर ले गया और घर में प्रमोद का पिता भीमराव मगरदे था जिसने तुरंत किवाड़ बंद कर अंदर से कुंदा लगा दिया फिर प्रमोद ने आनंदराव को जमीन पर पटक दिया और छाती पर बैठ गया और आनंदराव के मूह पर शर्ट का कपड़ा ठूस दिया और दोनों हाथ पकड़ लिया फिर भीमराव ने सन की रस्सी लाकर आनंदराव के दोनों हाथ बांध दिया । फिर प्रमोद ने लोहे की दराती से आनंदराव के सिर मे मारा । इतना सब करने के बाद भी आनंदराव नहीं मरा तो प्रमोद ने आनंदराव के गले मे बंधा गमछा खीचकर एवं रस्सी से खीचकर आनंदराव की हत्या कर दी फिर लाश को ठिकाने लगाने के लिए शाम को भाई दिलीप के आने पर तीनों ने साथ मिलकर आनंदराव की लाश को बोरे मे भरकर लाश को बैलगाड़ी मे रखकर भाउराव लिखितकर के खेत के पास मैंड पर रखे तीन पत्थरो से लाश को बांधकर भाउराव लिखितकर के खेत स्थित कुआ मे लाश को फेक दिया था । फिर आरोपी प्रमोद की निशादेही पर मृतक आनंदराव की लाश को बरामद कर प्रकरण क्र 895/2020 धारा 364,302,201,34 आईपीसी मे तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया जिन्हे आज दिनांक 31.10.2020 को न्यायालय पेश किया जा रहा है । उक्त हत्या के प्रकरण के आरोपियों को गिरफ्तार करने मे थाना प्रभारी श्री सुरेश सोलंकी , उनि . उत्तम नंदन मस्तकार , प्रआर . 551 गंभीर सिंह रघुवंशी , आर . 127 मनोज डेहरिया , आर . 332 अजय हाथिया , आर . 618 जगदीश , आर . चालक 620 गोपाल , सैनिक 92 कृष्णा बरडे की विशेष भूमिका रही ।