पुलिस कंट्रोल रूम में इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डेटाबेस प्रशिक्षण आयोजित

पुलिस कंट्रोल रूम में इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डेटाबेस प्रशिक्षण आयोजित
बैतूल : सुरक्षित सडक़ के साथ दुर्घटनाओं में होने वाली मृत्यु दर को कम करने के लिए सडक़ परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के प्रोजेक्ट इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डेटाबेस का प्रशिक्षण सोमवार को पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित किया गया। प्रशिक्षण में डीएसपी श्री विवेक गौतम, ट्रैफिक टीआई श्री अनुराग प्रकाश सहित सभी थाना प्रभारी एवं पुलिस कर्मचारी उपस्थित रहे। यह प्रशिक्षण जिला सूचना अधिकारी श्रीमती रचना श्रीवास्तव एवं डिस्ट्रिक्ट रोलआउट मैनेजर श्री अंकज देशमुख द्वारा प्रदान किया गया। प्रशिक्षण में इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट वर्जन 2.0 मोबाइल/वेब एप्लीकेशन के बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि सडक़ दुर्घटना में कमी लाने के लिए इस एप के माध्यम से डेटाबेस तैयार किया जाएगा। जिले में कहीं भी सडक़ दुर्घटना होने पर उसकी सम्पूर्ण जानकारी जैसे-घटना दिनांक, समय, स्थान का नाम, घटना स्थल के आसपास की जगह, घटना होने का संभावित कारण सहित अन्य जानकारी एप में संधारित की जाएगी। इससे भविष्य में किन स्थानों पर एवं किन कारणों से सडक़ दुर्घटनाएं बार-बार हो रही है, जानने में मदद मिलेगी, जिससे सडक़ दुर्घटना को कम करने के उपाए किए जाएंगे। प्रशिक्षण में इस एप्लीकेशन में इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डेटाबेस कैसे तैयार किया जाएगा व किसी भी सडक़ दुर्घटना में किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाने या घायल होने की स्थिति में कौन-कौन सा डाटा व घटना से संबंधित अन्य जानकारी कैसे भरी जाना है, के बारे में जानकारी दी गई। दुर्घटना स्थल से ही एप पर दर्ज की जाएगी जानकारी -------------------------------- प्रशिक्षण में जानकारी दी गई कि दुर्घटना की सूचना मिलते ही अधिकारी मौके पर पहुंचने के बाद मोबाइल से फोटो-वीडियो अपलोड कर सकेंगे। वाहनों की जानकारी भी एप पर उपलब्ध है। दुर्घटना होने पर मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी को संबंधित वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर एवं चालक का ड्राइविंग लाइसेंस नंबर एप में फीड करना होगा। जिसके बाद वाहन और लाइसेंस से जुड़ी जानकारी मिल जाएगी। इस एप में दिए गए फार्मेट के द्वारा पुलिस को दुर्घटना से जुड़ी जानकारी हादसे की वजह, मृतक व घायलों का नाम, पता सहित घटना स्थल से जुड़ी जानकारी दर्ज करनी होगी।