चंदा मामा की गोद मे है चंद्रयान 2


वैज्ञानिक डॉ प्रकाश खातरकर ने H BBC को क्या बताया
बैतूल (ब्यूरो) बैतूल जिले के ग्राम धाबला में जन्मे ख्यातिलब्ध वैज्ञानिक डॉ प्रकाश खातरकर मध्यप्रदेश के एक मात्र शख्शियत है जिन्होंने   जहाँ हमारी दुनिया समाप्त हो जाती है और उसके आगे जीवन नही है यानी साउथ पोल में 14 माह रहकर अपने शोध कार्य को अंजाम दिया वे आज हमारे पोर्टल से रूबरू हुए और भारत के बेहद महत्वपूर्ण मिशन चंद्रयान 2 की विशेषताए बताई।डॉ खातरकर का दावा है की यह मिशन सफल हुआ है हमारे वैज्ञानिक देश की भावनाओ पर खरे उतरे है।वैज्ञानिक प्रकाश खातरकर के मुताबिक दुनिया मे भारत ही ऐसा देश है जो मून के दक्षिणी ध्रुव पर अपना यान भेजने का साहस जुटा पाया।उनसे हुई चर्चा में यह बात भी उभरकर सामने आई की वे खुद पृथ्वी के दक्षिणी ध्रुव पर 14 माह शोध कर चुके है इसलिए चांद के दक्षिणी ध्रुव पर हमारे चंद्रयान के हालात पर उनकी मुहजुबानी हमे भेजे वीडियो से आसानी से समझ सकते है।देखे यह वीडियो खबर