चिचोली में वन अधिकारी पर हुआ जान लेवा हमला , ट्रैक्टर हटाने को लेकर हुआ था विवाद, मामला पुलिस में हुआ दर्ज

चिचोली में वन अधिकारी पर हुआ जान लेवा हमला , ट्रैक्टर हटाने को लेकर हुआ था विवाद, मामला पुलिस में हुआ दर्ज
चिचोली : पश्चिम वन मंडल सामान्य की गवासेन रेंज के बालाडोंगरी गांव में गुरुवार को वन कर्मियों एवं ग्रामीणों के बीच विवाद हो गया । . इस विवाद में दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर मारपीट का आरोप लगाया है . जानकारी के मुताबिक गवासेन वन परिक्षेत्र अधिकारी प्रवेश वराठे अपने साथी वन कर्मियों के साथ जंगल के दौरे पर थे . तभी बालाडोंगरी ग्राम में सुभाष यादव एवं सुमरत यादव ने सड़क पर खड़े हुए ट्रैक्टर को लेकर विवाद किया . इस दौरान मौके पर अन्य ग्रामीण भी इकट्ठे हुए . विवाद बढ़ने के बाद दोनों पक्षों के बीच तीखी नोकझोंक हुई और बुजुर्गों ने बीच - बचाव कर मामला शांत कराया . बालाडोंगरी गांव के सुभाष यादव ने वन कर्मियों पर मारपीट करने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है . वहीं दूसरी ओर रेंज ऑफिसर प्रवेश वराठे ने बताया कि बाला डोंगरी के इन ग्रामीणों द्वारा जंगल के रास्ते रेत का अवैध उत्खनन किया जाता है . इन्हें कई बार रोका गया है .। एक बात यह भी सामने आई हैं कि इस तरह से रेत की अवैध परिवन करने और लोगो को डर बनाकर लगातार काम किया जाता रहा हैं और सूत्रों से यह भी जानकारी लगी की वन क्षेत्रों में गैर क़ानूनी काम भी इनके द्वारा किया जा रहा था और मामले भी दर्ज हैं। इस सबके चलते वन अधिकारी दबंगों की रडार पर थे वह जानबूझकर यह इस्थिति बना रहे थे कि विवाद उत्पन्न हो । बस यही मौका पा कर सम्बंधित वन अधिकारी को चोट और शासकीय कार्य मे बाधा पहुँचने पर प्रशासन और कार्यवाही करता हैं । फिलहाल दोनो पक्षों ने मामला पुलिस में दर्ज करवाया हैं । एक बात यह भी सामने आ रहि की प्रशासन कर्मचारियों को अपराध रोकने के लिये तैयार करती हैं और इस घटना में अगर वह अधिकारी और जिला प्रशासन बिना राजनेता के दबाव से मामले की जाँच करें तो आगे और भी इस तरह के दबंगो और अवैध रेत और अन्य परिवहन को रोक जा सकता हैं ।