Breaking:--गोकुल गांव में भूकंप के झटके आए

Breaking:--गोकुल गांव में भूकंप के झटके आए
Breaking:--गोकुल गांव में भूकंप के झटके आए
Breaking:--गोकुल गांव में भूकंप के झटके आए

भू- गर्भीय धमाकों व जमीन में कंपन ने ग्रामीणों की नींद उड़ा दी

ग्रामीणों ने माना गोकुल गांव में भूकंप के झटके आए

 

खंडवा में ज़मीन के अंदर हलचल और तेज़ धमाके, कई घरों में आयी दरार नागपुर से ज़ियोलॉजिकल सर्वे की टीम करेंगी गांव का निरीक्षण खंडवा जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर ग्राम गोकुल गांव में मंगलवार देर रात तक भू-गर्भीय धमाकों व जमीन में कंपन ने ग्रामीणों की नींद उड़ा दी है। ग्रामीणों के अनुसार छह घंटे में तीन बार हुए जमीनी धमाकों से एक मकान की दीवार में दरार आ गई। जबकि घरों में ऊपर रखे बर्तन भी नीचे गिर गए। सूचना मिलने पर अधिकारी गोकुल गांव पहुंचे जहां उन्होंने घरों में आई दरारें देखी और वरिष्ठ अधिकारियों को बताना लोगों ने जमीन में जोरदार ग्रामीणों ने बताया धमाका होने की आवाज सुनी। इस दौरान हल्का कंपन भी महसूस किया। इस पर कई लोग घरों से बाहर निकल आए। मोघट थाना इलाके में गोकुल गांव में पिछले एक सप्ताह से जमीन के अंदर पानी के बुलबुले उठ रहे हैं और धमाके हो रहे हैं. मंगलवार रात हुआ धमाका इतना ज़ोरदार था कि कई घरों की दीवारों में दरारें पड़ गईं खंडवा में ज़मीन के अंदर हलचल और तेज़ धमाके, कई घरों में आयी दरार खंडवा के मोघट थाना इलाके में गोकुल गांव में पिछले एक सप्ताह से जमीन के अंदर पानी के बुलबुले उठ रहे हैं और धमाके हो रहे हैं. मंगलवार रात हुआ धमाका इतना ज़ोरदार था कि कई घरों की दीवारों में दरारें पड़ गईं खंडवा में ज़मीन के अंदर हलचल और तेज़ धमाके, कई घरों में आयी दरार खंडवा.के गोकुल गांव में ज़मीन के अंदर हलचल और धमाके हो रहे हैं. मंगलवार देर रात इतना ज़ोरदार धमाका हुआ कि आस-पास के घरों की दीवारों में दरार पड़ गयीं. ये सिलसिला एक हफ़्ते से चल रहा है. हलचल इतनी ज़्यादा है कि गांव वालों का जीना दूभर हो गया है. गांव में हो रही इस हलचल से गांव वाले और प्रशासन दोनों परेशान हैं. घरों में दरार-खंडवा के मोघट थाना इलाके में गोकुल गांव है. यहां पिछले एक सप्ताह से गांव नज़दीक खेत में जमीन के अंदर हलचल हो रही है. यहां लगातार ज़मीन के अंदर पानी के बुलबुले उठ रहे हैं और धमाके हो रहे हैं. मंगलवार रात हुआ धमाका इतना ज़ोरदार था कि कई घरों की दीवारों में दरारें पड़ गईं. गांव के लोग अपने बच्चों और बुजुर्गों को लेकर सड़कों पर आ गए. सबने सड़क पर डेरा डाल दिया. लोग इतने डरे हुए हैं कि रात में वो अपने-अपने घरों के बाहर ही सो रहे हैं. मौके पर पहुंचे अफसर डरे हुए ग्रामीण इधर-इधर सड़कों पर बैठकर जिला प्रशासन को तत्काल बुलवाकर सर्वे कराने की मांग करने लगे. ग्रामीणों के शोर शराबे और हंगामे के बाद सरकारी अमला पहुंचा और सबको समझाया. एसडीम संजीव केशव पांडेऔर पुलिस टीम ने तत्काल मौके पर पहुंचकर हालात का जायज़ा लिया. साथ ही आश्वासन दिया कि नागपुर से ज़ियोलॉजिकल सर्वे की टीम बुलवाकर इस हलचल और धमाकों का पता लगाया जाएगा.