तीसरी आँख से कब तक बच सकते है,क्या पटवारी ने सही कहा था?

रिश्वत खोर पटवारी कैमरे में कैद

कलेक्टर ने निलंबन की कार्यवाही के आदेश प्रस्तावित किये 

बैतूल 

बैतूल जिले की घोड़ाडोंगरी तहसील कार्यालय में प्लाट की बही बनवाने के नाम पर एक पटवारी का रिश्वत लेने का वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में किसान अशोक कहार अपनी जेब से रुपये निकालकर गिनते हुए और पटवारी अजय जावरकर रुपये लेते हुए नजर आ रहा है । पटवारी ने बही बनाने के बदले 10 हजार रुपये मांगे थे लेकिन किसान द्वारा कहा गया कि वह वो इतने रुपये नही दे सकता तब मामला चार हजार में सैट हुआ । दरअसल किसान अशोक कहार पटवारी से मिलने के लिए पहुचा तो बही बनाने के एवज में पटवारी ने उससे से दस हजार रुपये की मांग की और कहा की सभी को इन रुपयों में से हिस्सा देना पड़ता है । किसान के पास दस हजार रुपये नही थे उसने थोड़ी देर बाद आकर चार हजार रुपये देने की बात कही । थोड़ी देर बाद जब किसान पटवारी को मांगी गई रिश्वत के चार हजार रुपये देने के लिए गया तो वह अपने भांजे को साथ मे लेकर गया था । अशोक ने जब पटवारी को रिश्वत के रुपये दिए तो पीछे से अशोक के भांजे ने रिश्वत के रुपये देने का वीडियो बना लिया । तहसील कार्यालय में कार्यवाही नही होने के बाद किसान ने पूरे मामले की शिकायत अपर कलेक्टर से की और वीडियो की सीडी भी साथ मे दी है । वीडियो बनाने वाले किसान के भांजे सागर ने बताया की उसे मामा ने बताया था कि पटवारी बही बनवाने के लिए रुपये मांग रहा है रिश्वत की बात सुनकर वह भी उनके साथ तहसील पहुच गया । जब उसके मामा पटवारी को चार हजार रुपये देने लगे तो उसने वीडियो बना लिया । सागर का कहना है कि ऐसे भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करना जरूरी है । इस मामले को लेकर कलेक्टर तेजश्वी एस नायक ने कहा कि इस मामले में कार्यवाही के आदेश किये गए है , पटवारी की संलिप्तता को देखते हुए निलंबन की कार्यवाही के आदेश प्रस्तावित कर दिया है बाकी की कार्यवाही जांच के बाद कि जाएगी । प्रशासन की कोशिश है कि आम लोगो को तकलीफ नही होनी चाहिए ।

अब यही कहा जा सकता है मंत्री जीतू पटवारी ने सही कहा था