15 दिनों की पे रोल पर हत्या के आरोपी द्वारा किसान को खेती करने पर कर रहा हैं अड़ी बाजी ।

15 दिनों की पे रोल पर हत्या के आरोपी द्वारा किसान को खेती करने पर कर रहा हैं अड़ी बाजी ।
शाहपुर : मामला शाहपुर थाने के ग्राम रायपुर पहावाड़ी का हैं जहाँ पर एक किसान रामस्वरूप पिता लालसिंग उम्र 40 वर्ष के द्वारा अपनी जमीन पर खेती किसानी कर रहा था किंतु पिछले कुछ माह से आये पे रोल पर गांव के एक दबंग भादू जो कि हत्या के मामले में पिछले 10 वर्षों से जेल में था जिसके 15 दिन के पे रोल पर छूटकर आने के बाद किसान रामस्वरूप को धमकी और फसल बुआई करने में अड़ंगे लगा रहा हैं जिसको लेकर रामस्वरूप द्वारा जिला मुख्यालय पहुँचकर एसपी को आवेदन लिखा गया जिसे कार्यलय में छुट्टी होने के कारण सोमवार को बुलवाया गया साथ ही सलाह दी गयी कि उक्त आवेदन थाना शाहपुर में भी दिया जा सकता हैं जिसपर पुलिस द्वारा तुरंत कार्यवाही की जाने की बात समजाइस दी गई । @नीचे देखे क्या हैं पूरा मामला और कितनी जमीन का हैं यह मामला ::-------------- –--------------------आवेदक के पिता लालसिंह कि खानादानी भूमि 18 एकड़ ग्राम रायपुर पो . पहावाड़ी थाना शाहपुर तह . शाहपुर जिला बैतूल में स्थित है जिसमें से आवेदक के पिता द्वारा अनावेदक जो कि आवेदक कि बुआ है को 8 एकड़ 60 डिसमील भूमि कमोदी तथा दो अन्य लोग खुशीलाल और किशोरी को दे दी गई है तथा शेष भुमि जो कि 9 एकड़ 40 डिस्मील आवेदक एवं उसके अन्य खातेदारो के हिस्से में चलि गई है तथा अनावेदिका तथा खुशीलाल द्वारा जीमन को लेकर लगभग 5 वर्षों से विवाद चला आ रहा है तथा निरंतर विवाद होने के कारण अनावेदिका के दो पुत्र भादु एवं लखन ने खुशीलाल के पुत्र नरेन्द्र की हत्या कर दी जिस कारण से अनावेदिका के दोनो पुत्र भादु एवं लखन को सजा हो गई तथा सजा होने के दस साल उपरान्त भादु काड़े 15 दिन के लिए पैरोल पर आया हुआ था परन्तु उसे आज लगभग 6 माह के उपर हो गए है और वह अभी तक नही गया इस दोरान आवेदक के खेत पर आनावेदिका के पुत्र भादु खेती करने लगा इसकी जानकारी जब आवेदक को लगी तो आवेदक उसके खेत में पहुचा तो उसने देखा कि भादु उसके खेत जोत रहा है और ट्रेक्टर चला रहा हैनावेदकगण तथा जब आवेदक ने उसे अपने खेत में फसल जोतने से मना किया जो आनादेदिका के पुत्र भादु और किशोरी गालीगलोच तथा जान से मारने की धमकी देने लगे उसके पश्चात जब आवेदक ने अपनी जमीन पर जोतने नहीं दिया तो भादु आवेदक के घर दुसरे दिन सुबह आकर कहने लगा कि आपका और हमारा जो भी वाद विवाद है वहा ग्राम सरपंच के सम्मुख रखकर समझोता करते है तथा उसके पश्चात आवेदक एवं अनावेदिका के पुत्र सरपंच के यह पहुंचे जहा पर हमें पुर्व सरपंच श्रीराम तेकाम तथा उप सरपंच संतोष मालवीय मिले जिनसे बात करने पर घटना कि पुरी जानकारी दी गई जिस पर सरपंच तथा उप सरपंच ने यह निर्णय लिया कि अवेदक की जमीन का 50 डिस्मील भाग और दे दिया यह सब आपसी सहमती से तय किया गया था तथा गर्मीयो मे इसे नापा जाएगा एसा करार भी किया गया था परन्तु भादु ने आवेदक के खेत की दो मेड़ फोड़ दिया और नहर की बांध भी तोड़ दी तथा 20 डिस्मील और आगे बड़ा गया जब आवेदक रामस्वरूप को इस बात की जानकारी लगी तो आवेदक ने पुरी जमीन जोकी जोतली जिसे देखकर भादु एवं किशोरी ने आवेदक को जान से मारने कि धमकी दी तथा रात करीब 8-9 बजे आवेदक के पिछे कोई मारने को भी दोड़ा था अंधेरा होने की वजह से आवेदक उसे पहचान नहीं पाया तथा आवेदक के पिता लालसिंह उइके जो की ग्राम धापड़ा में शिक्षक यै तथा इसी जमीनी विवाद को लेकर मेरे पिता जी की भी हत्या हो गई है । तथा आवेदक को यह निरंतर भय लगा रहता है कि कहीं उसे भी उसके पिता की तरहा हत्या की गई तो तथ भादु 15 दिवस के पैरोल पर आया था परन्तु उसें आज लगभग 6 माह हो गए है तथा वह वापस जेल नही गया है । जिस कारण आवेदक एवं उसके परिवार को शारिरीक एवं मानसीक रूप से प्रताड़ित होना पड़ रहा है । अतः श्रीमान जी से निवेदन है कि अनावेदिका एवं उसके पुत्रो के विरूद्ध उचित कार्यवाही करने की मांग की गई हैं ।